एनीमिया के लक्षण और उपचार | Khoon Ki Kami Ke Lakshan

You are currently viewing एनीमिया के लक्षण और उपचार | Khoon Ki Kami Ke Lakshan

Khoon Ki Kami Ke Lakshan: आप जानते नहीं होंगे पर खून की कमी की समस्या हमारा देश में सबसे बड़ी हैं। हमारा आधा देश खून की समस्या की वजह से बीमारी से जूझ रहा हैं। यह सब हमारे गलत खान-पान और हमारी जीवनशैली की वजह से हुआ है। 

खून की कमी आयरन और कैल्शियम की वजह से होती हैं। इसका नतीजा यह होता है कि हमारा शरीर धीरे-धीरे कई बीमारियों की चपेट में आने लगता है।

और उसके साथ साथ मरीज के शरीर में बहुत की कमी होने की वजह से उसकी जान जाने की भी आशंका बन जाती हैं। 

आज हम आपको खून की कमी के लक्षण बताने जा रहा हूँ अगर आपको भी यह लक्षण दिखाई देते हैं तो आप तुरंत डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।

ज्यादातर लोग स्वादिष्ट खाने को तवज्जो देते हैं जिसमे स्वाद तो भरपूर होता है लेकिन पौष्टिक तत्व नहीं के बराबर होता है जिसकी वजह से अच्छा खाना होते हुए भी हमारे शरीर में खून की कमी होने लगती है।

Table of Contents

शरीर में कितना खून होना चाहिए (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

शरीर में कितना खून होना चाहिए (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

मानव शरीर में रक्त की मात्रा आमतौर पर शरीर के वजन के 7 प्रतिशत के बराबर होती है। आपके शरीर में रक्त की औसत मात्रा एक अनुमान है, क्योंकि यह इस बात पर निर्भर कर सकता है कि आप कितना वजन करते हैं, आपका लिंग और यहां तक ​​कि आप कहां रहते हैं।

शिशुओं: पूर्ण-अवधि में पैदा हुए शिशुओं के शरीर के वजन के प्रति किलोग्राम में लगभग 75 मिलीलीटर (एमएल) रक्त होता है। यदि शिशु का वजन लगभग 8 पाउंड है, तो उनके शरीर में लगभग 270 एमएल रक्त, या 0.07 गैलन होता है।

बच्चे: औसत 80 पाउंड के बच्चे के शरीर में लगभग 2,650 एमएल रक्त होता है, या 0.7 गैलन।

वयस्क: 150 से 180 पाउंड वजन वाले औसत वयस्क के शरीर में लगभग 1.2 से 1.5 गैलन रक्त होना चाहिए। यह करीब 4,500 से 5,700 एमएल है।

गर्भवती महिलाएं: अपने बढ़ते बच्चों का समर्थन करने के लिए, गर्भवती महिलाएं आमतौर पर 30 से 50 प्रतिशत अधिक रक्त की मात्रा में उन महिलाओं की तुलना में होती हैं जो गर्भवती नहीं हैं। यह रक्त के बारे में 0.3 से 0.4 अतिरिक्त गैलन है।

कभी-कभी मानव शरीर में रक्त की मात्रा उस आधार पर भिन्न हो सकती है जहां आप रहते हैं। उदाहरण के लिए, जो लोग अधिक ऊंचाई पर रहते हैं उनके पास अधिक रक्त होता है क्योंकि उच्च ऊंचाई पर अधिक ऑक्सीजन नहीं होती है।

खून की कमी/एनीमिया के लक्षण (Anemia symptoms In Hindi)

● होठों एवं नाखूनों का रंग बदल जाता है।

● थोड़ा सा भी चलने पर सांस फूलने लगती है।

● सीने में दर्द होना शुरू हो जाता है।

● नींद अच्छी नहीं आती है आंखों की रोशनी कमजोर होने लगती है और आंखों में कई तरह के समस्या होने लगते हैं।

● अक्सर थोड़ा सा भी नसों पर दबाव पड़ने से शरीर या हाथ पैर सुन्न होने लगता है।

● अचानक शरीर का वजन गिरने लगता है।

● इसके साथ ही दिमाग में कई तरह के तनाव उत्पन्न होते हैं और व्यक्ति चिंतित होने लगता है।

● शरीर मे खून की कमी होने पर हाथ पैर ठंडे रहते है।

● तनाव एवं सामान्य से ज्यादा बार बार सिर दर्द होना।

● दिल की धड़कन असामान्य होना।

● कमजोरी महसूस होना।

● शरीर में खून की कमी होने से बाल झड़ने की भी समस्या हो जाती है।

खून की कमी के समाधान (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

कई बार ऐसा होता है कि हमारे शरीर में खून की कमी हो जाती है जिसकी वजह से हमें ज्यादातर थकान कमजोरी या कुछ बीमारी जैसा महसूस होने लगता है। 

हमारे शरीर में खून की यानी कि हीमोग्लोबिन की उचित मात्रा होना बहुत ही आवश्यक है। 

हमारे भोजन में ऐसी बहुत सारी चीजें हैं जिसको खाने से हमारे शरीर में खून की हीमोग्लोबिन की मात्रा सही तरीके से बनी रहती हैं शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा कैसे बढ़ाए यह आज हम आपको बताने जा रहे हैं। 

अखरोट है खून बढ़ाने का खाना

अखरोट में ओमेगा 3 फैटी एसिड की मात्रा काफी अच्छी होती है इसका सेवन करने से आपके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी को पूरा किया जा सकता है।

गुड़ और मूंगफली खून बढ़ाता है (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

रोजाना गुड़ और मूंगफली के दाने मिलाकर सेवन करें इसे चबा चबा कर खाने से खून की कमी नहीं होगी और खून की मात्रा बढ़ेगी।

शरीर में खून बढ़ाए तिल

तिल से हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन का लेवल बढ़ता है तिल खाने से एनीमिया की बीमारी ठीक हो जाती है।

अनार hai khoon badhane ka food

अनार में मैग्नीशियम, कैल्शियम, विटामिन सी के अलावा आयरन भी अच्छी मात्रा में होता है। एक गिलास गुनगुने दूध में दो चम्मच अनार पाउडर डालकर पीने से खून बढ़ाया जा सकता है।

काजू (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

10 ग्राम काजू में 0.3 मिलीग्राम आयरन होता है इससे आपका हीमोग्लोबिन लेवल बढ़ता है।

काजू के ये 21 फायदे आपको कर देंगे हैरान

किशमिश बढ़ाए हीमोग्लोबिन

ब्लड बनाने के लिए जरूरी Vitamin-B कॉम्प्लेक्स की कमी को किशमिश पूरा करती है। Iron से भरपूर सूखी काली किशमिश का सेवन करके आप अपना हीमोग्लोबिन बढ़ा सकते हैं।

अंजीर का सेवन एनीमिया के उपचार में फायदेमंद (Fig: Home Remedies for Anaemia in Hindi)

दो अंजीर रात को पानी में भिगोकर सुबह उसका पानी पीने से और अंजीर खाने से हीमोग्लोबिन लेवल बढ़ाया जा सकता है।

और पढ़ें: अंजीर के 15 गजब फायदे और करे 100 रोग दूर

तुलसी करे एनेमिया को दूर

तुलसी की पत्तियों का नियमित सेवन करने से हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी नहीं होती है।

आंवला और जामुन खून बढ़ाने का आहार

बराबर मात्रा में आंवले और जामुन का रस मिलाकर पीने से हीमोग्लोबिन लेवल बढ़ता है।

ये पढ़ें: आंवला के 14 चमत्कारी फायदे

एनीमिया के इलाज की आयुर्वेदिक दवा पालक (Spinach Treats Anaemia in Hindi)

हीमोग्लोबिन की कमी होने पर पालक का सेवन करने करने से शरीर में इसकी कमी पूरी होती हैं पालक में आयरन की मात्रा काफी अधिक पाई जाती है जो कि हमारी सेहत के लिए अति आवश्यक है।

खून की कमी होने पर करें चुकंदर का सेवन (Beetroot: Home Remedy to Get Relief from Anemia in Hindi)

चुकंदर का सेवन करने से हीमोग्लोबिन यानि ब्लड बढ़ता है। इसके साथ ही अगर आप चुकंदर की पत्तियों को खाएंगे तो ज्यादा आयरन मिलेगा। चुकंदर की तुलना में इसकी पत्तियों में तीन गुना अधिक आयरन होता है।

नींबू करे खून मे बढ़ोत्तरी (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

नींबू में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है इससे बॉडी में Blood बढ़ता है। लेकिन हाँ इसका इस्तेमाल एक सीमित मात्रा में करना चाहिए।

अंकुरित आहार से बढ़ाए खून

सुबह उठकर अंकुरित अनाज जैसे-मूंग, चना, गेहूं, मेथी इत्यादि में नींबू का रस मिलाकर खाने से Hemoglobin level बढ़ता है।

बादाम का सेवन एनीमिया के उपचार में फायदेमंद (Almond: Home Remedies for Anemia in Hindi)

बादाम में कैल्शियम मैग्नीशियम होता है और इसका सेवन करने से हीमोग्लोबिन की कमी को पूरा किया जा सकता है सेहत की दृष्टि से यह बहुत ही फायदेमंद होता है।

केला करे खून में वृद्धि (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

शहद या आंवले के रस के साथ केले का सेवन करने से खून की मात्रा बढ़ाया जा सकता है।

पका अमरुद से एनीमिया का इलाज

अमरुद खाने से हमारे शरीर में खून की कमी नहीं होती है।

पिस्ता खून बढ़ाए (Khoon Ki Kami Ke Lakshan)

पिस्ते में 30 अलग-अलग तरह के विटामिन्स पाए जाते हैं। इसमें आयरन की मात्रा भी भरपूर होती है।

सेब से एनीमिया का उपचार

सेब एनीमिया जैसी बीमारी में काफी लाभदायक होता है इसका सेवन करने से शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ता है। 

खून बढ़ाने की टॉनिक (khoon badhane ki syrup)

खून बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा

Krishna’s हर्बल और आयुर्वेद हीमोग्लोबिन बूस्टर जूस

  • कृष्णा का हीमोग्लोबिन बूस्टर जूस एक आयुर्वेदिक हीमोग्लोबिन supplement है जो खून बढ़ाने में शानदार परिणाम दिखाता है
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देता है।
  • शरीर से जहरीले पदार्थ निकालने में मदद करता है

उपयोग कैसे करें:-

सुबह में 30 ml खाली पेट लीजिए और खाने के बाद 30 ml 30 मिनट लें।

महर्षि आयुर्वेद RAKTDA (आयुर्वेदिक आयरन सप्लीमेंट विटामिन C और कैल्शियम के साथ)

  • माइक्रोनाइज्ड कणों में आयरन भास्मा शामिल है जो बिना किसी साइड इफेक्ट के आपके भोजन से स्वाभाविक रूप से लोहे को अवशोषित करने की शरीर की क्षमता को बढ़ाता है।
  • ये विटामिन C से भरपूर है जो शरीर द्वारा बेहतर आयरन अब्ज़ॉर्प्शन देता है।
  • synergistic जड़ी बूटियों जो प्रभावी और अच्छी तरह से संतुलित कर रहे होते हैं।
  • 100% प्राकृतिक आयरन से भरपूर ।

डॉक्टर से कब सम्पर्क करें? (When to Contact a Doctor?)

जब इंसान सुस्ती और कमजोरी महसूस करे तो उन लक्षणों को संजीदगी से लेना चाहिए। आयुर्वेदिक इलाज करने के बाद भी अगर कोई फायदा न हो तो डॉक्टर से सलाह-मशवरा लेना चाहिए। (1)

दोस्त, इस Khoon Ki Kami Ke Lakshan पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा SHARE और COMMENT करिए।

इस पेज को SUBSCRIBE भी कर लीजिए, ताकि आगे आनेवाली शानदार और जानदार पोस्ट की सूचना आपको मिलती रहे।

स्वस्थ रहें खुश रहें 😊💖

This Post Has 5 Comments

Leave a Reply