आंवला के 14 चमत्कारी फायदे और नुकसान | Amla Benefits In Hindi

You are currently viewing आंवला के 14 चमत्कारी फायदे और नुकसान | Amla Benefits In Hindi

Amla benefits in Hindi: आँवला को Indian gooseberry नाम से भी जाना जाता है। इसके बारे में एक कहावत है “आंवले का खाया और बड़ों का बताया बाद में असर दिखाता है।”

सदियों से, आंवला का उपयोग हजारों वर्षों से अधिकांश आयुर्वेदिक दवाओं के आधार के रूप में किया जाता रहा है। 

इसे मातृ (जैसे माँ अपने बच्चों को खिलाती है) भोजन कहा जाता है जो शरीर के अधिकांश कार्यों का देखभाल करता है। आंवले को 100 रोगों की एक दवा माना जाता है।

आँवला उच्चकोटी का रसायन है। इसके बहुत से फायदे ( Amla ke fayde) हैं, आमले का उपयोग बुढ़ापा दूर रखने व जवानी बनाए रखने मे सहायक है । आयुर्वेद में आंवला को अमृत आहार के रूप में जाना जाता है।

इसका मूल स्वभाव पित्त (अग्नि) को कम करना है, लेकिन आंवला एकमात्र ऐसा फल हो सकता है जो सभी प्रकार के रोगों को ठीक करने के लिए सभी दोषों (वात, पित्त और कफ) में अद्भुत काम करता है।

आंवला में शक्ति और ऊर्जा का खजाना होता है, जो लोग अपने आहार में आंवला का उपयोग करते हैं वे एक लंबा और स्वस्थ जीवन जीते हैं।

आंवला फल आकार में गोल होता है, गूदा सख्त और गाढ़ा होता है। शोध से पता चलता है कि इसमें किसी भी अन्य फल की तुलना में अधिक विटामिन सी(Vitamin c) होता है।

इसमें सभी पांच स्वाद हैं:

  • मीठा
  • कड़वा
  • खट्टा
  • स्तम्मक
  • कटु

लेकिन, प्रमुख स्वाद खट्टा होता है।

आँवला के गुण

इसमें कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, कैरोटीन, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और सोडियम की अच्छी मात्रा होती है।

आचार्य चरक ने आंवला को सबसे अच्छी कायाकल्प जड़ी बूटी के रूप में उद्धृत किया।

शोध से यह भी साबित हुआ है कि इसमें एंटी-एजिंग, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-इमेटिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-डायबिटिक, हेपटोप्रोटेक्टीवे (लिवर के लिए अच्छा) और हाइपोलिपिडेमिक (कोलेस्ट्रॉल कम करता है) के गुण हैं।

यह आपको सब कुछ देता है, मजबूत दिल, दमकती त्वचा, चमकदार बाल, स्वस्थ आंत, खुशी वाले हार्मोन और क्या नहीं। 

इसलिए, आंवला का सेवन रोजाना करें, खासकर सर्दियों के दौरान, जिस भी रूप में आप चाहें। रोजाना एक आंवला सभी बीमारियों को दूर रखता है, डॉक्टर की तो बात ही छोड़िए।

पायरिया, एनीमिया, मलिनकिरण और सुस्ती जैसे रोग आज हमारे देश में आम हैं। ये सभी रोग विटामिन सी की कमी से होते हैं। 

कम ही लोग जानते हैं कि आंवले में पाए जाने वाले विटामिन सी की मात्रा किसी अन्य फल से बेजोड़ और ज्यादा होती है। दिन में दो या तीन आंवला खाने से व्यक्ति को उपरोक्त बीमारियों से बचाया जा सकता है। 

आंवला का प्रयोग भारतीय उपमहाद्वीप में प्राचीन काल से ही किया जाता रहा है। दुर्भाग्य से, आधुनिक समय में अब ऐसा नहीं है और आंवले का उपयोग कम हो गया है। 

यही कारण है कि अब हमारे पास विटामिन सी की कमी से होने वाली सभी सामान्य बीमारियां हैं। लोग बीमार होने पर अपने आहार में सुधार करने के बजाय डॉक्टरों और चिकित्सकों के पीछे दौड़ते हैं। 

इसके उपचार से रोग समाप्त हो जाता है या दब जाता है, लेकिन खान-पीन में सुधार न होने के कारण रोग शीघ्र ही फिर से प्रकट हो जाता है।

आंवला मस्तिष्क के लिए विशेष रूप से उपयोगी है। इसके पानी से बाल धोने पर बाल चमकदार काले और लंबे हो जाते हैं।

आंवले का उपयोग अचार, सॉस या जैम के रूप में किया जा सकता है।

ये भूख और पाचन के लिए भी उपयोगी है। ढाई मुट्ठी आंवला का चूर्ण खाने के बाद लिया जाए तो पेट मजबूत होता है।

डाबर आँवला चूर्ण 100% ऑर्गैनिक अभी ऑर्डर करें

आंवला का मुरब्बा(Candy) से दिमाग ही नहीं पेट भी मजबूत होता है। गर्भवती महिलाओं के लिए भी यह बहुत फायदेमंद होता है।

आंवला के फायदे (Amla Benefits In Hindi)

आँख आना/नज़र कमजोर होना (Good for Eyesight)

इसके रस को शहद के साथ प्रयोग करने से आंखों की रौशनी सुरक्षित रहती है। लगातार उपयोग करने से यह आपके आँख से चश्मा हटा देगा।

यह आँख की गुहेरी/फुंसी, नेत्रश्लेष्मलाशोथ(Conjunctivitis) और मोतियाबिंद के उपचार में भी उपयोगी है। दृश्य तनाव के लिए दिन में दो बार एक कप आंवले का रस शहद के साथ पीने से बहुत फायदा होता है।

सर्दी, खांसी और जुकाम से लड़ने में मदद करता है

स्टोर/दुकान से खरीदे गए सप्लीमेंट्स की तुलना में आंवला में मौजूद विटामिन सी शरीर द्वारा अधिक आसानी से अवशोषित हो जाता है। 

दो चम्मच आंवला चूर्ण को दो चम्मच शहद के साथ मिलाकर दिन में तीन से चार बार सेवन करने से सर्दी या खांसी होने पर तुरंत आराम मिलता है या स्थायी सुरक्षा के लिए रोजाना एक बार सेवन करें।

पेट की गैस से छुटकारा (Anwla For Acidity/gas)

जब पेट कमजोर हो और उसमें एसिडिटी के कारण खट्टी डकार और मुंह में पानी आना, जी मिचलाना और उल्टी या पेट में दर्द हो तो आंवला का अचार सुबह नाश्ते में दो से पांच दाने और दोनों भोजन के बाद एक या दो दाने खाने चाहिए। 

कुछ ही दिनों में एसिडिटी/पेट की गैस जड़ से खत्म हो जाती है और पेट मजबूत हो जाता है। 

विटामिन सी का अच्छा स्रोत (Good Source of Vitamin C)

यदि किसी व्यक्ति में विटामिन सी की कमी है तो वह कम प्रतिरक्षा शक्ति, बाल पतले हो जाना, शारीरिक थकान होना, बालों का झड़ना आदि जैसी स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हो सकता है। 

इसलिए दैनिक जीवन में विटामिन सी आवश्यकता को पूरा करने के लिए आंवला एक बेहतरीन स्रोत है। क्योंकि इसमें संतरे से 20 गुना अधिक विटामिन सी होता है। 

शरीर की गर्मी कम करें (Amla Benefits In Hindi)

शरीर में गर्मी इस बात का संकेत हो सकता है कि आपके शरीर में कोई समस्या है। चूंकि शरीर की गर्मी बढ़ने से बाल झड़ना, एसिडिटी, मुंहासे, मुंहासे, अपच जैसी गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं। 

इसलिए गर्मी को कम करना ज़रूरी है। तो उसके लिए आंवले का इस्तेमाल किया जा सकता है। आंवला को करी के रूप में भी बनाकर खाया जाता है. इस तरह, यह गर्मी को दूर करता है। 

जैसा कि यह पाया गया है कि आंवला शरीर में पित्त दोष को संतुलित कर सकता है और शरीर की अतिरिक्त गर्मी को समाप्त कर सकता है। 

अन्य खट्टे खाद्य पदार्थों,जो गर्मी बढ़ाते हैं,आमला इसके विपरीत हैं। यह गर्मी को कम करने में मदद कर सकता है। और दोष का उचित संतुलन बनाए रखने में। 

जिगर की रक्षा (Amla benefits in hindi for Protect Liver)

आंवला लीवर की रक्षा करने में मदद करता है। चूंकि आंवला में पाए जाने वाले विटामिन ए, विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट आपके लीवर की देखभाल कर सकता है और इसके कामकाज में सुधार कर सकते हैं। और यह लीवर को हेपेटाइटिस और सिरोसिस से भी बचाता है। 

आंवला विटामिन सी के सबसे संपन्न स्रोतों में से एक है और इसका सेवन लीवर की कार्यशीलता को बनाये रखने में मदद करता है। 

अध्ययनों ने साबित किया है कि आंवला में लीवर को सुरक्षित रखने वाले सभी तत्व मौजूद हैं। लीवर के स्वास्थ्य के लिए आपको दिन में 4-5 कच्चे आंवले खाने चाहिए.

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए (Boost Immune System)

प्रतिरक्षा, हमारे शरीर की लड़ने की क्रियाविधि, अहम है। क्योंकि यह मुख्य चीज है जो हमारे शरीर को बीमारियों से बचाती है। 

रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने से शरीर में रोगों से लड़ने की शक्ति कम हो जाती है। इसलिए एक अच्छा इम्यून सिस्टम होना जरूरी है और उसके लिए आंवला सबसे अच्छा विकल्प है। 

क्योंकि यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है और हमारे शरीर की रक्षा करता है। इसका उचित लाभ पाने के लिए हमें रोजाना सुबह आंवला का सेवन कर सकते हैं। 

स्त्री संबंधी रोग (Amla benefits in hindi for Women Disease)

जिन महिलाओं का बार-बार गर्भपात हो जाता है, उनके लिए यह अमृत की गोलियां ईश्वर की कृपा से खुशी का संदेश साबित होती है। 

दो मुट्ठी सूखा आंवला और दही, दो मुट्ठी पनीर, एक मुट्ठी किण्वित हाथीदांत, तीन मुट्ठी कस्तूरी। आंवला और बरदा हाथी दांत को बारीक पीसकर पनीर में कस्तूरी मिला लें। 

कस्तूरी मिलने पर पिसा हुआ आंवला और हाथी दांत मिलाकर चने के बराबर गोलियां बना लें। जरूरत पड़ने पर थोड़े से गुलाब जल में गोलियां भी मिला सकते हैं। 

गर्भपात कराने वाली महिलाओं को तीसरे महीने के शुरू से अंत तक एक गोली दूध, छाछ या अनार का शरबत रोजाना सुबह सेवन करना चाहिए। वह गर्भपात और अठारह से सुरक्षित रहेगी।

दिल को मजबूत करे (Amla benefits in hindi For Heart)

आंवला एंटीऑक्सिडेंट, आयरन, कैल्शियम, एंथोसायनिन, फ्लेवोनोइड्स, पोटेशियम आदि से भरपूर होता है जो हृदय स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होते हैं।

आंवला खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, जिससे हृदय की ओर रक्त के प्रवाह में रुकावट कम होती है।

1 चम्मच आंवला की एंटीऑक्सीडेंट क्षमता 782 इकाई है जो इसे सबसे स्वस्थ फल बनाती है।

ये फल को मुक्त कणों से लड़ने, damage डीएनए कोशिकाओं की recovery और बहुत कुछ करने की क्षमता प्रदान करता है।

त्वचा के लिए अच्छा (Amla benefits for skin)

आंवला एक प्राकृतिक रक्तशोधक(खून साफ करने वाला ) है जो त्वचा को भीतर से एक प्राकृतिक चमक देने में मदद करता है। 

यदि आप मुंहासे, फुंसी, त्वचा की एलर्जी या इसी तरह की अन्य त्वचा की स्थिति से पीड़ित हैं, तो आंवला से बने फेस पैक आज़माएं। 

आंवला त्वचा को जवां बनाए रखने में भी मदद करता है। अपनी त्वचा को दाग-धब्बों से मुक्त और चमकदार बनाए रखने के लिए रोजाना शहद के साथ आंवले का रस पिएं।

आप पानी में आंवला पाउडर भी मिला सकते हैं और अच्छे परिणाम के लिए इसे फेस-पैक के रूप में लगा सकते हैं।

लंबे घने काले बाल (Amla benefits for Hair Growth)

आधा चम्मच सूखा आंवला या आंवला पाउडर रात भर डेढ़ कप पानी में भिगोकर सुबह चार से पांच घंटे तक उबालें। 

इस छने हुए पानी से सिर धोने से कुछ ही दिनों में बाल लंबे और काले हो जाते हैं। बालों का झड़ना बंद हो जाता है और रूसी(dandruff) खत्म हो जाती है। 

एक और तरीका ये भी है: आंवला को पीसकर दही के साथ मिलाकर बालों की जड़ों में तीन से चार घंटे तक भी लगा रहने दें फिर नॉर्मल पानी से धो लें।

आंवला पाउडर अभी खरीदें

शुगर कंट्रोल (Amla Benefits In Hindi For Diabetes)

आंवला में क्रोमियम नाम का मिनरल होता है, जो शरीर में कार्बोहाइड्रेट मेटाबॉलिज्म और शुगर लेवल को रेगुलेट करता है। 

मधुमेह के रोगी के आहार में इस फल को शामिल करने की अक्सर सलाह दी जाती है, क्योंकि यह शरीर में कोशिकाओं की इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करता है।

बेहतर पाचन

आंवला मल त्याग को नियंत्रित करने में मदद करता है और पाचन संबंधी मुद्दों जैसे इरिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS) में मदद करने के लिए भी जाना जाता है।

यह फाइबर से भरपूर होता है जो बेहतर पाचन और पोषक तत्वों के बेहतर अवशोषण में मदद करता है।

यदि आप कब्ज, IBS, या किसी अन्य पाचन समस्या से पीड़ित हैं, तो अपने दिन की शुरुआत अपने सिस्टम को शुद्ध करने के लिए आंवले का जूस पीने से करें।

  • यह प्राचीन काल से भारत और मध्य पूर्व में कई महत्वपूर्ण और मूल्यवान दवाओं में एक आवश्यक घटक के रूप में उपयोग किया जाता रहा है। 
  • इसके फल, छाल और पत्ते टैनिन में उच्च होते हैं। इसके सेवन से पेशाब की मात्रा बढ़ जाती है। 
  • इसका कच्चा फल एक हल्के प्रकार का मलमल होता है। इसका ताजा रस शीतल, स्फूर्तिदायक, मूत्रवर्धक, सौम्य और हृदय को पोषण देने वाला होता है।

आंवला के सेवन से होने वाले नुकसान (Amla benefits and side effects)

तो देखा आपने कैसे आँवला सर के बालों से लेकर पैर के अंगूठे के नाखून तक एवं सभी भागों और प्रणालियों के लिए फायदेमंद है।

आँवला हालांकि एक प्राकृतिक औषधीय फल है, परंतु इसके भी कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं। लेकिन अच्छी बात यह है इसके नुकसान दुर्लभ(यानि ना के बराबर) हैं और अगर होते भी हैं तो, ज़्यादा मात्रा में सेवन करने से होते हैं।

  • इससे एसिडिटी हो सकती है।
  • अधिक मात्रा में खाने से गर्भावस्था के दौरान समस्या हो सकती है।
  • आंवला की अत्यधिक या गलत खुराक से रक्त शर्करा का स्तर काफी कम हो सकता है। इसलिए, यह मधुमेह रोगियों के लिए हानिकारक हो सकता है।
  • यदि आप इसका सेवन पानी के साथ ना करें तो इससे आपको कब्ज हो सकता है ।
  • इसका आचार रक्तचाप के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। इसलिए हृदय रोगी को इसका सेवन चिकित्सक की सलाह से ही करना चाहिए।
  • यदि इसका सेवन अधिक मात्रा में किया जाए तो यह पेशाब में जलन का भी कारण बन सकता है।
  • इसमें उच्च फाइबर (high fiber) पाई जाती है जिसकी वजह से डायरिया भी हो सकता है। इसीलिए इसके सेवन के साथ साथ पर्याप्त मात्र में पानी पीना भी ज़रूरी है।
  • यदि इसका सेवन लंबे समय तक या फिर ज़्यादा मात्रा में किया जाए तो आपको पथरी भी हो सकता है। (1,2,3)

Amla Benefits In Hindi लेख आपको कैसा लगा COMMENT करके बताएं और इसे SHARE भी कर दीजिए।

ऐसे ही ज़िंदगी के छोटी से लेकर बड़ी उलझन, परेशानी और बीमारी को दूर भगाने के लिए इस site/पेज को SUBSCRIBE करलें जिससे आने वाले शानदार और बेहतरीन जानकारी और चीजें सबसे पहले आपको मिल सके।

This Post Has 4 Comments

Leave a Reply