2 मिनट में सिर दर्द का रामबाण इलाज | प्रकार,कारण,इलाज और दवा

You are currently viewing 2 मिनट में सिर दर्द का रामबाण इलाज | प्रकार,कारण,इलाज और दवा

सिर दर्द का रामबाण इलाज: सिर दर्द वैसे तो एक बहुत सामान्य समस्या है l लेकिन कई बार जब ये तेज हो जाता है तो बर्दाश्त कर पाना मुश्किल हो जाता है l

सिरदर्द अपने साथ लाता है इर्रिटेशन, चिड़चिड़ापन और तकलीफ | इसके सटीक इलाज के लिए सही कारण जानना जरूरी है l

दोस्तों, आजकल हर किसी के पास समय कम है और काम ज्यादा। रोज की भागदौड़ ,थकान और स्ट्रेस के कारण सिरदर्द तो जैसे रूटीन का हिस्सा सा बन गया है। 

लेकिन दोस्तो इसके बाद जो होता है वो हमारी जिंदगी से पूरी तरह से परेशानी में डाल देता है।

होता यह है दोस्तों कि सिरदर्द को कम करने के लिए हम हर रोज दर्द निवारक गोलियां खाते हैं जो हमारी सेहत को नुकसान पहुंचाती हैं।

इन पेन किलर्स के साइड इफेक्ट के कारण हम हार्ट से लेकर डायबिटीज तो लीवर से लेकर किडनी तक की बीमारी को अपने पास बुला लेते हैं जो उम्र बढ़ने के साथ ही हमारे लिए घातक हो जाती हैं।

इन बीमारियों की चपेट में आकर हम पूरी जिंदगी अस्पतालों के ही चक्कर लगाते रह जाते हैं। जो हमारे दुख का बड़ा कारण होता है। 

ऐसे में दोस्तों, अगर आपको भी आदत है सिरदर्द में गोलियां खाने की आज ही इस आदत को छोड़कर आय़ुर्वेद औऱ घरेलू चीजों पर फोकस करें, ताकि आसानी से आप अपने हेल्थ को अच्छा कर सकें।

आज हम यही बताने जा रहे हैं कि किस तरह आप घऱ बैठे सिर दर्द का रामबाण इलाज (sar dard ka ramban ilaj) कर सकते हैं वो भी कुछ घरेलू चीजों से जानिए कैसे।

सिरदर्द क्या है? (What is headache)

ये इंसान के तंत्रिका तंत्र यानी नर्वस सिस्टम और गर्दन से जुड़ी परेशानी होती है।

सिरदर्द के उपाय जानने से पहले यह जानना ज़रूरी है कि सिरदर्द क्या है और इसके लक्षण क्या है? 

आमतौर पर जब आप किसी भावनात्मक या शारीरिक तनाव से गुज़रते हैं, तो यह समस्या शरीरिक प्रतिक्रिया के रूप में सामने आती है। 

ऐसे में न सिर्फ़ सिर, बल्कि गर्दन और पीठ में भी दर्द होने लगता है। आजकल सिरदर्द बहुत ही आम समस्या है, लेकिन वक़्त रहते ध्यान न दिया जाए, तो यह परेशानी बढ़ भी सकती है।

आगे इस लेख में हम सिरदर्द के विभिन्न प्रकार आपको बता रहे हैं, जिन्हें जानकर आप सही घरेलू इलाज कर सकेंगे।

सिरदर्द के प्रकार – Types of Headache in Hindi

सिरदर्द के प्रकार – Types of Headache in Hindi

1. तनाव से होने वाला सिरदर्द

यह सबसे सामान्य रूप से होने वाला सिरदर्द है। इस तरह के सिरदर्द में व्यक्ति अपने सिर के दोनों तरफ़ तेज़ दर्द महसूस करता है, जैसे कोई दोनों ओर से सिर में रबर बैंड से दबा रहा हो।

ऐसे सिरदर्द की वजह से गर्दन व कंधे की मांसपेशियां काफ़ी कड़ी हो जाती हैं और सूजन महसूस होती है।

कारण : इस तरह का दर्द तनाव, नींद की कमी या सिर पर चोट लगने से होता है।

नोट : तनाव संबंधी सिरदर्द ठंडी हवा के संपर्क में आने से भी हो सकता है।

जब सर्दी आती है और ठंडी हवा चलती है या एयर-कंडीशन के संपर्क में आने से जब हवा आपके गर्दन और सिर पर लगती है, इस स्थिति में भी यह सिरदर्द हो सकता है।

टेंशन से होने वाले सिरदर्द में फिज़ियोथेरेपी काफ़ी लाभदायक हो सकती है ।

2. माइग्रेन

माइग्रेन में होने वाला दर्द सिर के एक तरफ होता है, जिसे इसे अधकपारी भी कहते हैं।

इस सिरदर्द में मरीज़ को मितली, उल्टी और रोशनी से परेशानी हो सकती है। इसमें मरीज़ को सिर में कोई चीज चुभने जैसा दर्द होता है।

कारण : यह सिरदर्द तेज़ सुगंध, सोने की मुद्रा में परिवर्तन, हार्मोंस में बदलाव, शराब के सेवन, तनाव या फिर तेज़ आवाज़ के कारण हो सकता है।

नोट : इसके अलावा यह सिरदर्द कुछ ख़ास तरीकों के खाद्य पदार्थों के सेवन से भी होता है, जैसे – चॉकलेट, डेयरी उत्पाद, मूंगफल व सिट्रस वाले फल ।

ये जरूर पढ़ें: माइग्रेन का मतलब, कारण, लक्षण और पक्का इलाज

3. क्लस्टर सिरदर्द

इस तरह का सिरदर्द काफ़ी तीव्र और पीड़ादायक होता है। क्लस्टर सिरदर्द एक दिन में कई बार हो सकता है, लेकिन ज़्यादा देर के लिए नहीं होता है।

कभी-कभी यह किसी एक वक़्त पर ही शुरू होता है।

जैसे – अगर यह सुबह शुरू हुआ, तो कुछ वक़्त तक रोज़ सुबह ही होगा। यह दर्द सिर के किसी एक साइड और एक आख में हो सकता है, क्योंकि यह चेहरे के किसी नर्व पर भी प्रभाव डालता है।

कारण : यह गर्मी, थकावट, धूम्रपान, शराब का सेवन और ज़्यादा या तेज़ रोशनी के वजह से हो सकता है ।

4. साइनस सिरदर्द

साइनस में दर्द सिर के आगे के हिस्से में और चेहरे पर महसूस होता है। इस तरह का सिरदर्द तब होता है, जब गाल, नाक, सिर व आंखों में साइनस कैविटी हो जाती है।

यह सिरदर्द तब और ज़्यादा तीव्र हो जाता है, जब सुबह उठने के बाद इंसान आगे की ओर झुकता है या सिर को झुकाता है।

कारण : यह सिरदर्द तब होता है जब ठंड पड़ती है, ठंडी हवाएं चलती हैं, सर्दी-ज़ुकाम होता है, बुख़ार होता है, धूल-मिट्टी व ज़्यादा प्रदूषण होता है या फिर कोई संक्रमण होता है ।

सिरदर्द के प्रकार जानने के बाद यह ज़रूरी है कि आप सिरदर्द के कारण भी जान लें।

और पढ़ें: 100+ साल से ज्यादा जीने वाली लाइफस्टाइल/उपाय

सिरदर्द के कारण(sir dard kyon hota hai) – Causes of Headache in Hindi

ऊपर हमने चार तरह के सिरदर्द के बारे में बताया है। अब यह जान लेते हैं कि सिरदर्द के मुख्य कारण क्या होते हैं।

नीचे हम कुछ सामान्य, लेकिन गंभीर कारणों के बारे में आपको बता रहे हैं, जिन पर आपने शायद ही कभी ध्यान दिया हो।

  • तनाव
  • सिर पर चोट लगने से
  • भूखे रहने से
  • ज़्यादा तीव्र आवाज़ से
  • ज़्यादा तीव्र रोशनी से
  • ठंडी हवा से
  • ज़्यादा गर्मी से
  • हार्मोनल बदलाव होने से
  • माइग्रेन, साइनस जैसी बीमारी होने से
  • नींद पूरी न होने से
  • थकावट से
  • बुखार या ठंड लगने से
  • आंखों की समस्या होने से
  • ज़्यादा देर फोन पर बात करने से
  • कोई गंभीर बीमारी होने से
  • धूल-मिट्टी या प्रदूषण के संपर्क में आने से
  • ज़्यादा देर तक टीवी, कंप्यूटर या लैपटॉप पर काम करने से
  • ज़रूरी पोषक तत्व न लेने से

सिर दर्द का रामबाण इलाज – Home Remedies for Headache in Hindi

Sar dard ka upay: ऊपर तो थे कुछ कारण, जिनसे सिरदर्द होता है। ऐसे में अगर बार-बार सिरदर्द की दवा ली जाए तो यह सेहत के लिए अच्छा नहीं है। 

ऐसे में ज़रूरी है कि आप कुछ ऐसे उपाय करें, जिसका आपकी सेहत पर बुरा असर भी न पड़े और आपका सिरदर्द भी ठीक हो जाए। 

इसलिए, नीचे हम सिरदर्द के लिए घरेलू उपचार आपको बता रहे हैं, जिससे न सिर्फ़ आपको सिरदर्द में आराम मिलेगा, बल्कि आप पर कोई बुरा प्रभाव भी नहीं पड़ेगा।

अदरक है काफी फायदेमंद दवा

सिर के दर्द से निजात पाने के लिए अदरक काफी फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि इसमें जरूरतमंद पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं. इसमें पोटैशियम, मैग्नीज, कॉपर और मैग्नीशियम पाया जाता है. 

साथ ही ये अपने अंदर एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण रखता है। – इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण फ्लू, सिरदर्द और पीरियड्स में होने वाले दर्द में आराम देता है.  

तो दोस्तों अगर आपको सिरदर्द की समस्या हो तो थोड़ा सा अदरक का रस और उतनी ही मात्रा में नींबू का रस मिलाकर दिन में दो बार पीने से आपको बहुत सिर दर्द की परेशानी से आराम मिलता है, ये दवा (sar dard ki dawa in hindi) की तरह काम करता है।

लेकिन ज्यादा सिर दर्द होने पर डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

तुलसी है घरेलू दवा (सिर दर्द का रामबाण इलाज) 

तुलसी की पत्तियों के फायदों से हम सभी परिचित है।अगर आप सिरदर्द से परेशान हैं, तो तुलसी के पत्तों से सिरदर्द से जल्द राहत पा सकते हैं।

अगर आप भी अक्सर सिर दर्द की समस्या से परेशान रहते हैं तो तुलसी के तेल की एक दो बूंदें नाक में डालें।

इस तेल को नाक में डालने से पुराने सिर दर्द और सिर से जुड़े अन्य रोगों में ये दवा (sar dard ki dawa in hindi) की तरह काम करता है। सबसे ज़रूरी बात यह है कि तुलसी के उपयोग करने का तरीका सही होना चाहिए। 

इतना ही नहीं अगर आप तुलसी की पत्त‍ियों को पानी में पकाकर उसका सेवन कीजिए। इससे सिर दर्द से राहत मिलेगी।

लौंग से सिर दर्द का रामबाण इलाज

लौंग भी सिरदर्द की परेशानी से भी लौंग आराम दिलाता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, एंटीफंगल और एंटीवायरल प्रोपर्टी इस समस्या को खत्म करने में असरदार होती है।

4-5 लौंग लें और इसे पीसकर साफ रुमाल में रखें और सूंघें। 

इसे थोड़ी-थोड़ी देर में सूंघते रहें। इसे आप चुटकीभर कपूर और नारियल तेल संग मिलाकर सिर की मालिश कर सकते हैं। ये दवा (sar dard ki dawa in hindi) की तरह काम करता है।

या ऐसे भी कर सकते हैं कि कुछ पांच-छह लौंग को तवे पर गर्म कर लें, इन्हें साफ रूमाल में रख लें।

जब सिर में दर्द होने लगे तो आप थोड़ी-थोड़ी देर में इसे रूमाल में रखकर सिर पर घुमाते रहें। ऐसा करने से सिरदर्द से राहत मिलेगी।

दालचीनी से सिर दर्द का रामबाण इलाज

दालचीनी मानव शरीर को कई बैक्टीरिया से संक्रमित होने से बचाता है। क्योंकि दालचीनी में एंटीबायोटिक, एंटी वायरल, एंटी माइक्रोबियल, तत्व पाये जाते हैं।

अत: यह वायरल शरीर में मौजूद बैक्टीरिया के संक्रमण को कम करते हैं। 

साथ ही यह फंगल इंफेक्शन को भी खत्म करता है। ऐसे में सिरदर्द के लिए काफी फायदेमंद होता है। अगर आप सिर दर्द से परेशान रहते हैं, तो दालचीनी का सेवन करें। 

दालचीनी के 8-10 पत्तों को पीसकर लेप बना लें। दालचीनी के लेप को मस्तक पर लगाने से ठंड, या गर्मी से होने वाले सिर दर्द से आराम मिलता है। आराम मिलने पर लेप को धोकर साफ कर लें।

तेल मालिश से सिर दर्द का रामबाण इलाज

head oil massage-hair-सिर दर्द का रामबाण इलाज
source: Healthshots

नारियल तेल से लेकर सरसों के तेल से मालिश करना सिरदर्द में आराम दिलाता है।

मालिश या मसाज करने से सिर की मांसपेशियों को आराम मिलता है। सिर के चारों तरफ और गर्दन तक मालिश करें। बादाम या जैतून के तेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

लेकिन मैं सुझाव दूंगा निद्रा मालिश तेल का, जो बिना कोई केमिकल के, प्राकृतिक और आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों और आवश्यक तेल से बना है। जो आपको सिरदर्द और माइग्रेन दर्द से राहत देती है।

निद्रा मालिश तेल अभी तुरंत 1 क्लिक में खरीदें

सिरदर्द के घरेलू एवं आयुर्वेदिक नुस्खे 

आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसी घरेलू नुस्खों व आयुर्वेदिक औषधियों के बारे में जिससे आप सिरदर्द से फौरन मुक्ति पा सकते हैं। 

सिरदर्द का घरेलू नुस्खा/उपाय (Cold and headache home remedies)

  • जुकाम के कारण सिरदर्द होने पर तुलसी के कुछ पत्ते, काली मिर्च सौत बड़ी इलायची, चुटकी भर जायफल पाउडर का काढ़ा बनाकर सेवन करें। 
  • दालचीनी को पानी में खूब बारीक पीसकर लेप बनाकर सिर पर लगाने से सिर दर्द में फायदा होता है। पीपल, सोंठ, मुलेठी, सौंफ, कूठ इन सबको लगभग बराबर मात्रा में लेकर पीसकर चूर्ण बना लीजिए। सिरदर्द होने पर इस चूर्ण में एक चम्मच पानी मिलाकर गाढ़ा लेप बना कर माथे पर लगाए। सिरदर्द में आराम होगा। 
  • नींबू के पत्तों का रस गर्म पानी में मिला लें और स्टीम लें। 
  • देशी घी की दो से पांच बूंदें नाक के छिद्रों में डालने से सभी प्रकार के सिरदर्द में आराम मिलता है। हाँ, घी लेकिन शुद्ध होनी चाहिए।

पतंजलि शुद्ध देसी गाय की घी अभी ऑर्डर करें

  • सिरदर्द होने पर पीपल, सोंठ, मुरली, सौंफ, कूट इन सबकी लगभग 10-10 ग्राम लेकर पीसकर चूर्ण बना लीजिए। उसके बाद इस चूर्ण में एक चम्मच पानी मिलाकर गाढ़ा लेप बना बना लीजिए। इस लेप को माथे पर लगाए सिरदर्द होना बंद 
  • गोदन्ती भस्म व प्रवाल भस्म और वटी इलायची के दाने तीनों को पीसकर महीन चूर्ण बना लीजिए। सुबह उठकर खाली पेट थोड़ा सा चूर्ण लेकर दही और पानी के साथ पीजिए। इससे सिरदर्द की समस्या से निजात मिलेगी।
  • तौलिये को हल्के गर्म पानी में उस तौलिये से दर्द वाले हिस्सों की मालिश कीजिए। इससे सिरदर्द में फायदा होगा।
  • पेट की गड़बड़ी से सिरदर्द होने पर बड़ी इलायची, काली मिर्च, काला नमक,अजवाइन, हींग, सौंफ, पुदीना और मिश्री का काढ़ा बनाकर पिएं।
  • सिर के पिछले भाग और गर्दन में रोज सरसों के तेल की मालिश करें, जिससे सिरदर्द में काफी आराम मिलता है। 

सिर दर्द के आयुर्वेदिक नुस्खे  

• महालक्ष्मी विलास रस की 1-1 गोली सुबह- शाम लेने से सिरदर्द में छुटकारा मिलता है। 

Baidyanath (झांसी) महा लक्ष्मीविलास रस खरीदें

• सिरदर्द होने पर सबसे पहले मानसिक तनाव को कम करने के लिए-अपना काम बदलने का प्रयास करें बिस्तर पर लेटकर सिर के जिस हिस्से में दर्द हो रहा हो उस तरफ वाले नाक में सरसों के तेल की कुछ बूंदें या षडबिन्दु तेल की 2 बूंदें डाल दीजिए, उसके बाद जोर से सांस ऊपर की ओर खींचिए इससे सिरदर्द में गजब की राहत मिलेगी।

• षडबिंदु तेल 5-5 बूंदे नाक में डालने से पुराने सिरदर्द में राहत व सुकून मिलता है।

Baidyanath षडबिंदु तेल अभी खरीदें – इसकी रिव्यू और रेटिंग भी बहुत अच्छी है आप चेक कर सकते हैं

• गोदन्ती भस्म व प्रवाल भस्म और छोटी इलायची के दाने। तीनों को पीसकर महीन चूर्ण बना लीजिए।

सुबह उठकर खाली पेट छोटा चम्मच चूर्ण लेकर दही या पानी के साथ पीजिए। इससे सिरदर्द की समस्या से धीरे-धीरे निजात अवश्य मिलेगी। 

• शूलादिवज्र रस की 1-1 गोली सुबह- शाम मिश्री के साथ लेने से सिरदर्द में जबरदस्त लाभ होता है। 

शुद्ध शूलादिवज्र रस टैबलेट अभी ऑर्डर करें

• नर्म सूती तौलिये को कोसे गर्म पानी में डालकर उस तौलिये से दर्द वाले हिस्सों की आराम से मालिश करें। इससे सिरदर्द में फायदा होगा। 

• जुकाम की वजह से सिरदर्द ज्यादा हो तो सिर पर बादाम रोगन तेल से मालिश करना लाभकारी होगा। 

• त्रिफला चूर्ण 500 मि. ग्राम को 1 ग्राम मिश्री के साथ मिलाकर रात को सोने से पहले लेने से आराम मिलता है। 

आँख कि वजह से सर दर्द हो तो आंखों की रोशनी ठीक रखने के लिए आंवले का पाउडर या त्रिफला का रोज सेवन करें। 

100% ऑर्गेनिक आंवला पाउडर यहाँ ऑर्डर दें —— Organic India त्रिफला पाउडर अभी खरीदें

•साधारण स्ट्रेचिंग भी सिरदर्द के लिए सहायक हो सकती है। कुछ सॉफ्ट नैक-रोल्स करने की कोशिश करें, जिसमे जबड़े को फैलाते हुए कान को कंधे की तरफ लाने की कोशिश करें।

•इसके अलावा आप “Dr. Vaidya का शारदाघना” आयुर्वेदिक सिरदर्द एंड माइग्रेन मेडिसिन भी आजमा सकते हैं।

यह माइग्रेन और सिरदर्द से राहत प्रदान करने में मदद करती है।इन औषधियों का प्रयोग करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लें।

Dr. Vaidya का आयुर्वेदिक सिरदर्द एंड माइग्रेन मेडिसिन अभी खरीदें

सर दर्द और उल्टी का इलाज (home remedies for headache and vomiting)

कई लोग ऐसे होते हैं जिन्‍हें सफर करना पसंद भी है पर अपनी उल्‍टी और सिरदर्द की वजह से वह ज्‍यादा एक्‍सप्‍लोर नहीं कर पाते। उन्‍हें बस, ट्रेन, गाड़ी के सफर में उलटियां और सिर दर्द की शिकायत हो जाती है।

जानिए इसके कारण

यात्रा के दौरान होने वाली इस परेशानी का सब से बड़ा कारण न्यूरोटौक्सिन के विरुद्ध मानसिक सुरक्षा के रूप में उत्पन्न होता है।

आप का शरीर जिस गति में होता है, उस की पहचान आप का दिमाग संवेदी सिस्टम के 3 अलग-अलग हिस्सों- कानों के अंदरूनी भागों, आंखों और शरीर के गहरे ऊतकों से करता है।

इससे बचने के उपाय:-

पहला उपाय: जब भी आप सफर पर निकले ,कुछ आवश्यक तैयारी कर के चले। सफर शुरु करने से पहले अपने सटीक पका नींबु रख लें, जब भी जी मिचलाए ,नीबू को छील कर सूंघ ले,बस उल्टी शांत।

दूसरा उपाय है कि,आप लौंग को पीस कर चीनी मिला कर अपने हैंडबैग मैं रख ले,जब भी उल्टी का मन हो इसमें से चुटकी भर निकाल कर चूस ले, अब आपकी उल्टी की इच्छा समाप्त हो जाएगी।

तीसरा उपाय: जिन लोगों को सफर के दौरान सिर दर्द और उलटी की समस्या परेशान करती है उन्हें पुदीने के रस का सहारा लेना चाहिए।

आप चाय में पुदीने का रस डालकर पी सकते हैं इससे सफर आराम से कट जाता है। साथ ही आप अपने रुमाल पर पुदीने के रस की बूंदें छिड़कर कर सूंघते हुए जा सकते हैं।

चौथा उपाय: ट्रैवल पर जाते समय या घर से बाहर निकलते वक्त उलटी से बचने का सबसे कारगर तरीका है जीरे पाउडर का पानी। हमेशा घर से निकलते वक्त एक कप पानी में एक चौथाई चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर पीएं, इससे आपको काफी राहत मिलेगी।

अदरक ट्रैवल सिकनैस को दूर करने में अहम भूमिका निभाता है। लंबे समय से उबकाई के उपचार के लिए अदरक का उपयोग किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: कान दर्द का पक्का इलाज

सिर दर्द की दवा/गोली/टैबलेट(Headache Medicines/Tablet)

सिर दर्द का रामबाण इलाज: दर्द निवारक, आमतौर पर माइग्रेन और सिरदर्द के लिए डॉक्टरों द्वारा सुझाई गई प्राथमिक दवाएं हैं।

ध्यान दें: यदि रोगसूचक राहत दवाओं का उपयोग सप्ताह में दो बार से अधिक किया जाता है, तो आपको अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए, जो निवारक सिरदर्द दवाएं लिख सकते हैं।

रोगसूचक दवाओं के ज्यादा लेने से वास्तव में अधिक बार सिरदर्द हो सकता है या सिरदर्द के लक्षण बिगड़ सकते हैं।

माइग्रेन या सिरदर्द के लक्षणों से राहत के लिए ये कुछ दवाएं हैं:

Sar dard ki tablet/medicine name list

Generic Name/सामान्य नामBrand Name/ब्रांड नाम Use/उपयोग Precautions/एहतियातPossible Side Effects/संभावित दुष्प्रभाव
Acetaminophen/एसिटामिनोफेनPanadol, Tylenolदर्द से राहत, सिरदर्द का इलाज अगर निर्देशित के रूप में लिए जाते हैं तो कुछ साइड इफेक्ट, हालांकि रक्त की मात्रा में परिवर्तन और जिगर की क्षति उनमें शामिल हो सकते हैं:
Aspirin/असपाइरिन Bayer, Bufferinदर्द से राहत, सिरदर्द का इलाज19 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में रेये सिंड्रोम (एक जानलेवा तंत्रिका संबंधी स्थिति) की संभावना के कारण उपयोग न करेंपेट में जलन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रक्तस्राव, ब्रोन्कोस्पास्म या कसना जो वायुमार्ग के संकुचन का कारण बनता है, एनाफिलेक्सिस (जानलेवा एलर्जी रिएक्शन), अल्सर
Fenoprofen/फेनोप्रोफेन Nalfonतनाव सिरदर्द की उपचार; आधासीसी/माइग्रेन; हार्मोन सिरदर्द मतली, दस्त, अपच, चक्कर आना, उनींदापन
Flurbiprofen/फ्लर्बिप्रोफेन Ocufenतनाव सिरदर्द की रोकथाम; अधकपारी। तनाव सिरदर्द का उपचार गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल परेशानी, उनींदापन, चक्कर आना, दृष्टि समस्याएं, अल्सर
Ibuprofen/इबूप्रोफेनAdvil, Motrin IBतनाव सिरदर्द का इलाज; सिरदर्द कब्ज, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रक्तस्राव, मतली, उल्टी, दाने, जिगर की क्षति

नोट: सिरदर्द बना रहे या बढ़ने लगे तो डॉक्टर की सलाह अवश्य ले । (1,2,3)

सिर दर्द का रामबाण इलाज post आपको कैसा लगा COMMENT करके बताएं और इसे SHARE भी कर दीजिए।

ऐसे ही ज़िंदगी के छोटी बड़ी मुश्किलात और बीमारी को दूर भगाने के लिए इस site/पेज को SUBSCRIBE करलें जिससे आने वाले शानदार और बेहतरीन जानकारी और चीजें सबसे पहले आपको मिल सके।

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply