कई बीमारियों का इलाज करे और सेहत दे अलसी-alsi ke fayde

You are currently viewing कई बीमारियों का इलाज करे और सेहत दे अलसी-alsi ke fayde

Alsi ke fayde: छोटे भूरे रंग के अलसी के बीज में प्रकृति के कई फायदे होते हैं, इनमें कई औषधीय गुण होते हैं, इसलिए इसका रोजाना इस्तेमाल करना त्वचा, नाखूनों, बालों और अन्य स्वास्थ्य की सुंदरता बढ़ाने के लिए सप्लीमेंट की जरूरत नहीं है।

पोषण विशेषज्ञों का कहना है कि अलसी में ओमेगा -3, फाइबर, विभिन्न खनिज, विटामिन और अद्वितीय हर्बल यौगिक होते हैं।

जो इसे हृदय रोगियों के लिए सबसे अच्छा भोजन बनाते हैं और कैंसर और मधुमेह से भी बचाते हैं। साथ ही, अच्छे वसा प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत हैं।

Flax seeds name in hindi meaning: flaxseed को हिन्दी(India) में अलसी या अलसी का बीज कहते हैं। वहीं कुछ राज्यों जैसे बिहार में इसे तीसी के नाम से भी जाना जाता है।

Table of Contents

अलसी का पौधा कैसा होता है (what is alsi seeds)

अलसी का पौधा देर सर्दियों से लेकर शुरुआती वसंत तक नीले फूलों के साथ, एक यार्ड लंबा तक बढ़ता है। जो डोडी का रूप धारण कर लेते हैं। 

यह डोडा चने के समान होता है जो महीन चमकदार नुकीले बीजों से भरा होता है। इसे अलसी कहते हैं। इन बीजों से तेल भी निकाला जाता है। 

अलसी आमतौर पर गेहूं की फसल के साथ उगाया जाता है। अलसी और उसका तेल दोनों ही मानव शरीर के लिए अच्छे होते हैं।

यह ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, नीदरलैंड, यूनाइटेड किंगडम, भारत, पाकिस्तान, मिस्र और रूस में पाया जाता है।

पहले अलसी का उपयोग कपड़ा बुनाई और प्राकृतिक नायलॉन बुनाई में भी किया जाता था।

ये अभी भी ईरान में कपड़ा बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। लेकिन अब, अधिक शोध के साथ, कुछ और लाभ सामने आए हैं।

अलसी में मौजूद खनिज़ और विटामिंस और अन्य गुण

सिर्फ एक चम्मच अलसी में 37 कैलोरी, 1.3 ग्राम प्रोटीन, 2 ग्राम कार्ब्स, 1.9 ग्राम फाइबर, 3 ग्राम कुल वसा, 0.3 ग्राम संतृप्त वसा, 1597 मिलीग्राम ओमेगा फैटी एसिड, विटामिन बी 6 2, विटामिन बी 1 होता है।

कैल्शियम ٪ 2, आयरन ٪ 2, मैग्नीशियम ٪ 7, फॉस्फोरस 4%, पोटेशियम ٪ 2. अलसी में बड़ी मात्रा में ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है जिसे अल्फा-लिनोलेनिक एसिड कहा जाता है।

अलसी का उपयोग करने के फायदे (alsi seeds ke fayde)

alsi ke fayde

Flax seeds benefits in hindi: आपने सुना होगा कि पहले के लोग को बहुत ही कम बीमार हुआ करता था और ये सच है पहले के लोग अनजाने में पैसों की कमी और जानकारियों के अभाव में अलसी का सेवन किया करते थे।

क्योंकि अलसी को उपजाना बहुत ही आसान था। कोई मेहनत की जरूरत नही है, एक बार लगा दो फिर हो जाये तो काट लो खेत से, इससे उनमे बहुत सी बीमारी नही होती थी।

तो चलिए alsi ke fayde bataye देते हैं।

फाइबर और प्रोटीन का खज़ाना

अलसी के दो बड़े चम्मच में 6 ग्राम फाइबर, 5 ग्राम प्लांट प्रोटीन और महत्वपूर्ण मात्रा में तांबा, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फास्फोरस और थायमिन होता है।

इसमें मौजूद सूक्ष्म पोषक तत्व हड्डियों को मजबूत करते हैं,मूड और नींद में सुधार करते हैं और रक्त में ऑक्सीजन को अवशोषित करने में मदद करते हैं। संक्षेप में, अलसी हर तरह से फायदेमंद होती है।

वजन घटाने का एक स्रोत

शोध के अनुसार अलसी वजन घटाने में काफी मददगार होती है। इसमें फाइबर की अधिक मात्रा पाचन तंत्र में मदद करती है, मेटाबॉलिज्म को तेज करते हुए कोलेस्ट्रॉल के स्तर को संतुलित करती है।

अलसी की रोटी या इसके आटे को गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से कुछ ही दिनों में वजन कम होता है।

कैंसर की रोकथाम (alsi ke fayde)

शोध के अनुसार अलसी के सेवन से स्तन, कोलन (कोलन कैंसर), त्वचा और फेफड़ों के कैंसर के कारण प्राकृतिक रूप से समाप्त हो जाते हैं।

महिलाओं के लिए अलसी का सेवन सबसे अच्छा विकल्प है, इसमें महिलाओं के सभी रोगों का इलाज है।

ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर

अलसी के बीजों में पौधों में पाए जाने वाले सबसे फायदेमंद ओमेगा-3 फैटी एसिड होते हैं, जिन्हें अल्फा लिनोलिक एसिड या एएलए भी कहा जाता है।

यह मनुष्यों में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड के फायदे भी अनगिनत हैं और अलसी के बीज भरपूर मात्रा में होते हैं।

अलसी के फायदे पुरुषों के लिए

मधुमेह रोगियों के लिए बेहतर आहार

क्या आपको पता है की अलसी के बीज का रोज़ाना सेवन शुगर level कम कर, मधुमेह(Diabetes) से बचाने के लिए बेहतरीन दवाई के जैसे काम करता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के 2012 के एक अध्ययन के अनुसार, हर 10 में से एक व्यक्ति को मधुमेह है, जिसमें टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह वाले लोग शामिल हैं। 

अलसी में मौजूद लिग्निन तत्व रक्तचाप को सामान्य रखता है। एक छोटे से अध्ययन में जिन महिलाओं और पुरुषों को 12 हफ्ते से डायबिटीज हो रही थी, उन्हें रोजाना 13 ग्राम अलसी दी गई।

परिणामस्वरूप, सभी व्यक्तियों में इंसुलिन का स्राव बढ़ गया और रक्त शर्करा का स्तर कम पाया गया।

वजन घटाने के लिए बढ़िया

अलसी के बीज में एक महत्वपूर्ण घटक, म्यूसिलेज भी होता है, जो पानी में मिलाकर खाने पर पेट भरता है और परिपूर्णता का एहसास देता है। यह वजन घटाने में मदद करता है।

दिल की सेहत में alsi ke fayde

हृदय रोग के मुख्य कारणों में से एक खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा में वृद्धि है।

जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन के अनुसार, जो लोग एक दिन में 30 ग्राम अलसी का सेवन करते हैं, उनमें एलडीएल(LDL) कोलेस्ट्रॉल कम होता है, जो उनके कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं। 

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि अलसी के बीज फाइबर से भरपूर होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं।

एक प्रयोग में मरीजों को तीन महीने तक अलसी के बीज खिलाए गए, लेकिन तीन महीने बाद उनके एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर 20% कम हो गया।

कब्ज़ से छुटकारा दे 

जैसा कि बताया गया है कि ये फाइबर से भरपूर होते हैं, इसलिए अलसी खाने से पेट पर सुखद प्रभाव पड़ता है।

इनका नियमित सेवन आंतों और नियमित मल त्याग के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है और साथ ही कब्ज से राहत मिलती है।

मेटाबोलिक सिंड्रोम (alsi ke fayde)

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि मेटाबोलिक सिंड्रोम हृदय रोग और टाइप 2 मधुमेह का कारण बनता है। यह हमारे समग्र स्वास्थ्य को प्रभावित करता है और इसका अत्यधिक नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

यह शरीर को बहुत नुकसान पहुंचाता है। कमजोरी महसूस होती है और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं।

लेकिन अगर आप शुरू करते हैं अलसी के प्रयोग से रोग ठीक हो जाता है या कम से कम इसका प्रभाव काफी कम हो जाता है।

शारीरिक सूजन में alsi ke fayde

सूजन से हमारे शरीर में जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द होता है, लेकिन अलसी का इस्तेमाल करने से इन समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

इनमें ओमेगा-3 फैटी एसिड, विटामिन बी1, सेलेनियम और कॉपर प्रचुर मात्रा में होता है जो शारीरिक सूजन को कम करता है और जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द से राहत दिलाता है। 

त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद

ओमेगा 3 फैटी एसिड न केवल बालों को मजबूत करता है बल्कि बालों के झड़ने की समस्या पर काबू पाने में भी मदद करता है।

ये एसिड प्रदूषण के प्रभाव से सुरक्षा प्रदान करते हुए त्वचा की नमी को बनाए रखते हुए चिकनाई और समग्र स्वास्थ्य में सुधार करते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य में सुधार

अलसी का तेल ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर होने के कारण समग्र मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी मदद करता है।

इसमें मौजूद अल्फा लिनोलेनिक एसिड दिमाग की अच्छी सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है।

अलसी तेल के उपयोग

हीरा जेल (alsi ke fayde)

एक कप पानी में एक चौथाई कप अलसी डालें। अलसी को रात भर भीगने के लिए छोड़ दें। इस मिश्रण को एक कड़ाही में मध्यम आंच पर पकाएं।

जब यह अच्छी तरह खुल जाए तो इसमें लैवेंडर के तेल की बूंदें डालें. ठंडा होने पर टिन में डालकर फ्रिज में रख दें।

घुंघराले बालों को स्टाइल करने के लिए यह जेल बहुत अच्छा है। हालांकि, इसे हर तरह के बालों पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैंसर के खतरे को कम करें

यह तेल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो स्वस्थ कोशिकाओं को कैंसर होने से बचाने में मदद करता है।

इसके विरोधी भड़काऊ गुणों के कारण, इस तेल के कैप्सूल विभिन्न प्रकार के कैंसर के खतरे को भी कम करते हैं।

महिलाओं के लिए अलसी के फायदे

flax seeds benefits for women-alsi ke fayde

सिर का सूखापन दूर

नहाने से आधा घंटा पहले अलसी का तेल लगाएं इससे सूखापन दूर होता है। इसके नियमित इस्तेमाल से न सिर्फ स्कैल्प का रूखापन दूर होता है बल्कि बाल मजबूत और चमकदार भी बनते हैं।

चेहरे के दाग धब्बे दूर करे (alsi ke fayde)

2 चम्मच शहद में 1 चम्मच नींबू का रस और 1 चम्मच अलसी का तेल मिलाएं। इसे सीधे चेहरे पर लगाएं।

यह त्वचा के लिए बेहद उपयोगी है। इससे चेहरे पर रोजाना मालिश की जा सकती है। यह रूखी त्वचा और मुंहासों जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाता है।

त्वचा की एलर्जी से निजात दे

अधिक संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को शुष्क या मेकअप के अत्यधिक उपयोग से एलर्जी होने की संभावना अधिक होती है।

ऐसे में कोकोआ बटर और अलसी के तेल को मिलाकर एलर्जी वाली जगह पर लगाएं। इस जेल से बदबू नहीं आती है और एलर्जी दूर होती है।

बेहतरीन स्क्रब (alsi powder ke fayde)

हम एक मिश्रण बनाने के लिए दही, शहद और अलसी के पाउडर को मिलाते हैं। त्वचा को 10 मिनट तक स्क्रब करें और पानी से धो लें।

यह त्वचा से मृत कोशिकाओं को हटाता है और त्वचा को कोमल और मुलायम बनाता है।

फ्रेश ऑर्गेनिक रॉ अलसी पाउडर पतंजलि अभी तुरंत खरीदें

आंखों के आसपास काले घेरे

डार्क सर्कल्स से छुटकारा पाने के लिए रोजाना रात को सोने से पहले आंखों के आसपास अलसी का तेल लगाएं।

एक हफ्ते के अंदर ही घेरे गायब होने लगेंगे और आंखों के आसपास की त्वचा मुलायम और चमकदार हो जाएगी।

अलसी तेल की कीमत

आशीर्वाद अलसी तेल 1 लीटर अभी ऑर्डर करें

अलसी का पोषण मूल्य

अलसी का तेल विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और फिर जिंक, मैग्नीशियम और ओमेगा -3 तेलों से भरपूर होता है।

हृदय, रक्त वाहिकाओं, प्रतिरक्षा प्रणाली, परिसंचरण, प्रजनन अंगों, मस्तिष्क प्रणाली, हड्डियों और जोड़ों पर अलसी के प्रभाव सर्वविदित हैं।

डायटीशियन के अनुसार मल्टीविटामिन के बाद अलसी एक बेहतरीन सप्लीमेंट है। घुटने के दर्द और जोड़ों के दर्द के लिए अलसी का तेल सबसे अच्छी दवा है।

शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए अलसी से बेहतर कुछ नहीं है। अलसी लीवर के कार्य को नियंत्रित करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।

मोटे लोग जो अपना वजन कम करना चाहते हैं, वे अलसी के नियमित उपयोग से अपना वजन तेजी से कम कर सकते हैं। मस्तिष्क के कार्यों की सटीकता में अलसी का अपना स्थान है।

दिल और खून में अलसी का सेवन कोलेस्ट्रॉल को कम करके अलसी के बार-बार इस्तेमाल से हार्ट अटैक और ब्लड प्रेशर की संभावना कम हो जाती है।

जिन लोगों को तेल का स्वाद पसंद नहीं है उन्हें तेल का इस्तेमाल करने के बाद एक गिलास जूस का सेवन करना चाहिए।

आप अनानास और थोड़ा सा शहद भी मिला सकते हैं और 15 मिनट के अंतराल के बाद इसे पी सकते हैं। तेल अपना स्वाद खो देगा।

अलसी का जूस (Alsi ke fayde)

इस तरह आप इसका जूस बना सकते हैं। आधा कप अंगूर काजू, आधा कप चेरी का रस, एक कप दही, एक कप पनीर, आधा कप अलसी का तेल, एक या दो बड़े चम्मच शहद, दो या चार बड़े चम्मच गेहूं का दलिया, एक कटा हुआ केला।

सब कुछ एक ब्लेंडर में डालें दो मिनट के बाद दो बड़े गिलास बनाएं, पोषण और स्वाद को बनाए रखने के लिए इसे तुरंत पी लें।

अलसी की रोटी

इसके आटे का इस्तेमाल आप गेहूं के आटे में ब्रेड बेक करने के लिए कर सकते हैं।

इसकी रोटी बहुत ही स्वादिष्ट और उपयोगी होती है।

अलसी कैसे खाएं (how to eat alsi)

प्राच्य चिकित्सा में अलसी को चूल्हे पर भूनने के फायदे बताए गए हैं।

याद रखें कि बीजों को किसी भी तरह से पूरी न खाएं क्योंकि वे बिना किसी लाभ के पाचन तंत्र से गुजरते हैं। इसलिए इन्हें बारीक पीसकर लेना ही बेहतर होता है।

ये बीज दो रूपों में आते हैं, सुनहरे और सफेद, लेकिन दोनों के गुण एक ही हैं।

ध्यान रखें कि इनका अधिक से अधिक लाभ उठाने के लिए इन्हें पीसकर अच्छी तरह से इस्तेमाल करना चाहिए। 

दिन में तीन छोटी चम्मच अलसी के बीज खाने से स्वास्थ्य पर सुखद प्रभाव पड़ता है। इनका उपयोग सलाद, दूध, सैंडविच आदि में किया जा सकता है।

अलसी के चमत्कार (Alsi ka fayda)

1) प्रतिदिन सुबह शाम एक चम्मच अलसी का सेवन आपको पूरी तरह से स्वस्थ रखने में सहायक होता है, इसे पीसकर पानी के साथ भी लिया जा सकता है।

अलसी को नियमित दिनचर्या में शामिल कर आप कई तरह की बीमारियों से अपनी रक्षा कर सकते हैं, साथ ही आपको डॉक्टर के पास जाने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी।

2) भूरे – काले रंग के यह छोटे बीज ह्रदय रोगों से आपकी रक्षा करते हैं। इसमें उपस्थित घुलनशील फाइबर्स, प्राकृतिक रूप से आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम करता है।

इससे ह्रदय की धमनियों में जमा कोलेस्ट्रॉल घटने लगता है, और रक्त प्रवाह बेहतर होता है, नतीजतन हार्ट अटैक की संभावना नहीं के बराबर होती है।

3) अलसी में ओमेगा-3 भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो रक्त प्रवाह को बेहतर कर, खून के जमने या थक्का बनने से रोकता है जो हार्ट अटैक का कारण बनता है। यह रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी सहायक है।

4) शाकाहारी लोगों के लिए अलसी, ओमेगा-3 का बेहतर विकल्प है, क्योंकि अब तक मछली को ओमेगा-3 का अच्छा स्रोत माना जाता था, जिसका सेवन नॉन-वेजिटेरियन लोग ही कर पाते हैं।

5) यह शरीर के अतिरिक्त वसा को भी कम करती है, जिसे आपका वजन कम होने में सहायता मिलती है।

6) अलसी के तेल की मालिश से शरीर के अंग स्वस्थ होते हैं और बेहतर तरीके से कार्य करते हैं। इस तेल की मसाज से चेहरे की त्वचा कांतिमय हो जाती है।

7) अलसी में अल्फा लाइनोइक एसिड पाया जाता है जो अथराइटिस, अस्थमा, डाइबिटिज और कैंसर से लड़ने में मदद करता है। खास तौर से कोलोन कैंसर से लड़ने में यह सहायक होता है।

8) इसमें उपस्थित लाइगन नामक तत्व, आंतो में सक्रिय होकर, ऐसे तत्व का निर्माण करता है जो फीमेल हार्मोन्स के संतुलन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

9) अलसी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और फाइटोकेमिकल्स बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करती है, जिससे त्वचा पर झुर्रियां नहीं होती और कसाव बना रहता है।

10) सीमित मात्रा में अलसी का सेवन, खून में शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है।इससे शरीर के आंतरिक भाग स्वस्थ रहते हैं और बेहतर कार्य करते हैं।

अलसी बीज के नुकसान

यदि आप स्वस्थ है तो आपके लिए अलसी का सेवन करना नुकसान नही है। यदि आप किसी खास बीमारी से ग्रसित है तो आपको अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेना चाहिए।

यदि आप दुबले है तो अलसी आपके मोटा होने में परेशानी कर सकता है क्योंकि अलसी में हाई फाइबर होता है जो आपके भूख को कम करता है जिससे आप खाना कम खाएंगे, ओर वाजिब बात है जब आप कम खाएंगे तो मोटा नही हो पाएंगे।

तो दोस्त, इस Alsi ke fayde लेख को ज्यादा से ज्यादा SHARE करिए।

इस पेज को FOLLOW और SUBSCRIBE भी कर लीजिए, ताकि आगे आनेवाली शानदार और जानदार पोस्ट/लेख की सूचना आपको मिलती रहे

पढ़ने के लिए शुक्रिया 🙂

Leave a Reply