टाइटैनिक जहाज की 30 हैरान करने वाली बातें | Titanic facts

You are currently viewing टाइटैनिक जहाज की 30 हैरान करने वाली बातें | Titanic facts

हममें से ज्यादातर लोग टाइटैनिक जहाज को साल 1997 में आई फिल्म टाइटैनिक के वजह से जानते हैं।  लीड रोल में थे अपने लियोनार्डो डि केप्रियो, जो बने थे जैक. और केट विंसलेट, जो बनी थीं रोज. डायरेक्ट करने वाले थे जेम्स कैमरन. 

लेकिन मैं आपको आज रहस्यमयी टाइटेनिक जहाज के बारे में 30 ऐसी हैरान कर देने वाली बातें बताने वाला हूं जो आपने पहले ना ही कभी पढ़ी होगी, ना ही सुनी होगी और ना ही टाइटेनिक फिल्म में देखी होगी। 

जिसमें से एक चीज यह भी बताऊंगा की, टाइटेनिक का डूबना बर्फ के चट्टान से टकराने के कारण नहीं हुआ था, यह तो था ही लेकिन डूबने का असली वजह कुछ और थी जो मैं आपको आज बताने वाला हूं। 

1. टाइटैनिक त्रासदी के बारे में पहली फिल्म 1912 में ही बन गई थी, जिस साल यह डूब गई। इस फिल्म का नाम सेव्ड फ्रॉम द टाइटैनिक था।

और वास्तव में इसे उस समय की एक मूक फिल्म स्टार डोरोथी गिब्सन जो इस टाइटैनिक हादसे मे बच गई थी,ने अपने प्रेमी जूल्स ब्रुलटॉर के साथ फिल्म बनाने की योजना बनाई।

titanic-facts-टाइटैनिक जहाज

शूटिंग के दौरान, उसने वही पोशाक पहनी थी, जो उसने रात को पहनी थी, जहाज नीचे चला गया था, और जिंदा बचे रहने के guilt ke कारण फिल्म स्टाफ और क्रू मेम्बर के सामने पूरी तरह फूट फूटकर रोई थी। 

2.टाइटेनिक जहाज का पूरा नाम था आरएमएस टाइटेनिक, इसका मतलब रॉयल मेल इसे बनाने वाली कंपनी का नाम था व्हाइट स्टार लाइन। जिस जगह यह जहाज डूबी, उस जगह से सबसे नजदीक जमीन Newfoundland  थी, जो 640 km  दूर थी.

3. टाइटेनिक जहाज नॉर्थ आयरलैंड के बेलफास्ट में 31 मार्च 1990 को 3000 लोगों की टीम ने बनाना शुरू किया।

26 महीने बाद 31 मई 1911 को यह बनकर तैयार हुआ।

इसे बनाते समय 246 लोगों को चोट लगी आग 2 लोगों की मौत हो गई थी। टाइटेनिक बनाने वाले कुशल और मेहनती कारीगरों को एक हफ्ते के $10 मतलब ₹730 वह अकुशल कारीगरों को एक हफ्ते के $5 यानी ₹365 मिलते थे।

जब बेलफास्ट,आयरलैंड से टाइटेनिक जहाज पहली बार रवाना होने वाली थी तो इसे देखने के लिए लगभग 100000 लोग आए थे।

titanic launch

4. इतिहास में टाइटैनिक ऐसा अकेला जहाज है जो कि एक हिमखंड से टकराकर डूब गया. 14 अप्रैल 1912 मैं रात 11:40 मिनट पर टाइटेनिक उत्तरी अटलांटिक सागर में बर्फ के टुकड़े से टकरा गया था.

जिसके बाद जहाज के अंदर पानी हर मिनट मे 362000 किलोग्राम के हिसाब से भर रहा था. और टक्कर के 2 घंटे 40 मिनट बाद यह पूरी तरह पानी में डूब चुका था.

टाइटैनिक जहा sinking

इसकी डूबने की गति 16 किलोमीटर प्रति घंटा थी और उसको समुदाय की आंतरिक सतह तक पहुंचने में मात्र 15 मिनट लगे थे.

5. टाइटेनिक को कभी ना डूबने वाला जहाज कहा जाता था और इसे बड़े लंबे चौड़े स्केल पर बनाया गया था, यह 882.5 फीट लंबा, 92.5 फीट चौड़ा, और 175 फीट ऊंचा था।

यह उस समय तक की बनाई गई दुनिया की सबसे बड़ी जहाज थी। यह लगभग तीन फुटबॉल मैदानों के बराबर था.

टाइटैनिक-जहाज-size

यह इतना विशाल था कि जब यह चलती थी तो अपने जगह से 66000 टन पानी की जगह लेती थी। और इसका वजन 52310 टन था। 

6. इसमें लगाए गए 4 चिमनी मैं से सिर्फ तीन काम करती थी, जो एक एक्स्ट्रा चिमनी थी, वह सिर्फ इसे दिखने में अच्छा और संतुलित लगे इसलिए बनाया गया था। 

7. इस जहाज को बनाने मे उस समय का $7.5 million खर्च हुए थे, लेकिन मजे की बात तो यह है कि 1997 में आई जेम्स कैमरन की फिल्म टाइटेनिक को बनाने में 200 मिलियन डॉलर ज्ञानी ₹14 अरब रुपए लगे थे।

अगर इन्फ्लेशन रेट को बैलेंस भी किया जाए तो 1911 की $7.5 million, 1997 मे 126 मिलियन डॉलर बनते थे यानी ₹9 अरब रुपए. फिर भी असली जहाज की कीमत से डेढ़ गुना ज्यादा पैसे उसी जहाज पर फिल्म बनाने में लगी थी.

titanic-movie -film

और उसके बाद इस फिल्म ने $2.2 अरब डॉलर की कमाई की। इतने पैसे मे 11 टाइटैनिक जहाज बनाया जा सकता था. 

8.एक ऑफिशियल वेबसाइट के अनुसार टाइटेनिक में लगभग 2224 लोग सवार थे। लेकिन इस जहाज की कैपेसिटी उससे ज्यादा की थी, इस जहाज पर 3500 से ज्यादा लोग सवार हो सकते थे। 

उस हादसे में 1517 लोग मारे गए थे जो कुल आबादी का 67 परसेंट था। और 708 लोगों को बचाया गया. 

9.  जहाज पर कुल 64 लाइफबोट आ सकते थे लेकिन जहाज भरा भरा ना लगे और और कुछ इंजीनियर को यह भरोसा था कि यह कभी डूब नहीं सकती, इसलिए इस पर सिर्फ 20 लाइफ बोट लिए गए, वह भी फॉर्मेलिटी के तौर पर।अगर 64 लाइव वोट ले लिए जाते तो लगभग सभी लोगों की जान बच सकती थी। 

10. हिमखंड से टकराने के बाद जब पहले लाइफ बोट को निकाला गया तो उसमें सिर्फ 28 लोग को ही सवार होकर निकाल गए, जबकि उस पर 65 लोग आ सकते थे।

एक लाइफ्बोट मे 40 लोग आ सकते थे लेकिन उसे 7 क्रू मेंबर और पांच पैसेंजर लेकर भाग गए। उस 20 लाइफबॉट में भी अगर सही से जगह भर इंसान सवार किए जाते, तो 1178 लोगों की जान बचाई जा सकती थी जबकि 706 ही बच पाए। 

11. टाइटेनिक के इंटीरियर डिजाइन अंदरूनी हिस्से को डिजाइन करने की प्रेरणा लंदन के पिकाडली नेबर हुड में स्थित The ritz रेस्टोरेंट्स से ली गई थी। यह होटल 1906 में खुली थी और आज भी चल रही है। 

12. इस जहाज में ऐश वो आराम की सारी luxurious सुविधाएं मौजूद थी जिसमें, parisian cafe , रीलैक्स करने के लिए tea गार्डन, पढ़ने के लिए लाइब्रेरी, जिम, स्विमिंग पूल, तुर्किश बाथ, टेनिस खेलने के लिए स्क्वैश कोर्ट और कुत्ते की रहने की जगह यानि kennel भी थी।

titanic-luxuries

जहाज पर प्रथम क्लास के यात्रियों के लिए 20,000 बोतलें बियर की 1500 बोतलें शराब की और 3,000 सिगार भी उपलब्ध था।

13. टाइटैनिक पर यात्री और स्टाफ को खाने के लिए 35000 किलो मीट 40000 अंडे, 5000 किलो ताज़ा मछली, 40 टन आलू, 1500 किलो प्याज,7000 सलाद के पत्ते, 36000 सेब, 5600 लिटर दूध, 4500 kg चीनी, 250 barrel आटा, 11300 kg  चिकन, 36000 संतरे, 4500 kg राजमा और चावल, 1000 पीस ब्रेड, 1000 kg कॉफी, के अलावा और भी चीजें मौजूद थीं।.

जहाज से निकलने वाली करीबन 100 टन राख को हर दिन समुन्द्र में बहा दिया जाता था। फुल लोड होने के बाद टाइटेनिक का वजन करीबन चार करोड़ 63 लाख 26 हजार किलो था. इतना वजन होने के बाद भी यह 42 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकता था.

जहाज पर हर रोज 63000 लीटर पानी की खपत होती थी.और हर दिन इस शिप को चलाने के लिए 159 भट्टियों मे 8 लाख किलो से ज्यादा कोयले की खपत होती थी।जिसके लिए 176 लोग रात- दिन लगे हुए थे।

14. जिस जगह टाइटैनिक डूबा था वहाँ का तापमान -2 डिग्री सेल्सियस था, मतलब की इतनी ठंडी रात मे कंपकंपाती पानी मे कोई ज्यादा से ज्यादा 15 मिनट तक ही जिंदा रह सकता था.

लेकिन इस शिप का मुख्य baker, Charles Joughin 2 घंटे तक पानी मे हाथ पैर मारते रहा तब तक, जब तक उसे रेस्क्यू टीम ने बच नहीं लिया।

बाद मे उसने बताया की उसने पानी मे डूबने से पहले बहुत मात्र मे ह्विस्की पी लिया था ताकि इस सुई जैसी चुभने वाली पानी मे अपने शरीर को गरम रख सके। 

15. टाइटैनिक पर सबसे ज्यादा डूबने वाले पुरुष थे क्योंकि इस मुश्किल घड़ी में कुछ समझदार लोग निकल कर आए और लोगों को कश्ती में बिठाते समय “महिलाएं बच्चे पहले Kids & Ladies first” यह प्रोटोकॉल फॉलो किया.

titanic-lifeboat-facts

हम आपको यह भी बता दें कि जहाज पर 9 कुत्ते मै से दो कुत्ते को भी जिंदा बचा लिया गया था.

16.वायलेट कॉन्स्टेंस जेसोप नाम की एक महिला Titanic के डूबने से बच गयी थी। दिलचस्प बात यह है कि वह अपनी बहन जहाज़, ब्रिटानिक, और अपनी तीसरी बहन जहाज ओलंपिक के साथ टक्कर के बाद भी डूबने से बच गई थी। 

17. जब ऑफिसर को आइस बर्ग दिखाई दिया तो उनके पास एक्शन लेने के लिए मात्र 37 सेकंड बचे थे. आइसबर्ग दिखते ही फर्स्ट ऑफिसर मॉडेस्ट ने जहाज को लेफ्ट मोड़ने का इंजन रूम में इंजन को रिवर्स चालू करने का ऑर्डर दिया और जहाज पर लेफ्ट मोड भी लिया गया था.

लेकिन यह आइसबर्ग से बचने के लिए काफी नहीं था यदि 30 सेकंड पहले और पता लग जाता है तो शायद टाइटेनिक को बचाया जा सकता था 

18. यह समुंदरी Trip कुछ लोगों के लिए सुनहरी छुट्टी romantic vacation जैसा था, क्यूंकी इसपे सवार 13 जोड़े हनीमून मनाने जा रहे थे। 

19. फर्स्ट क्लास पैसेंजर को 352 गाने के लिस्ट दी गई थी इसमें से जो भी सुनने की मर्जी हो वह उस गाने की फरमाइश कर सकते थे। और सभी म्यूजिशियंस पर यह जिम्मेदारी थी कि वह 352 के 352 गाने प्ले कर सके, बजा सकें।

titanic-musicians

टाइटैनिक मूवी की वो आइकानिक सीन जिसमे जहाज के धीरे-धीरे डूबने की खबर मिलने के बाद भी म्यूजिशियंस आखरी सांस तक गाना बजाते रहे ताकि कुछ समय बाद मरने वाले लोग अपने आखिरी पलों को खुशी से बिता सके.ऐसा सच मे हुआ था.

20.टाइटैनिक पर सबसे कम उम्र का यात्री 2 महीने की थी। मिल्विना डीन जहाज पर सवार सबसे कम उम्र के यात्री थी और सबसे लंबे समय तक जीवित रहने वाले यात्री थी। 2009 में 97 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। 

21. लंदन के किंग्स कॉलेज के रिचर्ड हॉवेल्स कहते हैं कि टाइटैनिक के बारे में शायद यह सबसे बड़ा मिथक है जहाज के मालिक कंपनियों व्हाइट स्टार लाइन ने कभी भी ऐसा दावा नहीं किया था और असल में तो इसके डूबने से पहले तक किसी ने ऐसी कोई बात भी नहीं लिखी थी। 

22. जर्मनी ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 1943 में एक टाइटैनिक फिल्म भी बनाई थी। यह अमेरिकी और ब्रिटिश पूंजीवाद के खिलाफ प्रचार के रूप में सेवा करने के लिए था, और लालच पर जहाज के डूबने को दोषी ठहराया।

फिल्म को अमेरिका और ब्रिटेन दोनों में प्रतिबंधित कर दिया गया था। और एयर फोर्स के द्वारा उस थिएटर को जिसने इसका प्रीमियर हुआ था उसे उड़ा दिया गया था। 

23. 269 मीटर की ऊँचाई वाले टाइटैनिक को अगर सीधा खड़ा कर दिया जाए तो यह अपने समय की हर इमारत से ऊँचा होता। और टाइटैनिक की चिमनिया इतनी बड़ी थी कि इनमें से दो ट्रेने गुजर सकती थी। 

24. फर्स्ट क्लास की टिकट उस समय $4,375 थी, जो की आज के समय $100,000 होगी। यानि 73 लाख रुपये। 

titanic-ticket

25. टाइटैनिक पे हर दिन अखबार छपता था, बल्कि इसका खुद का Atlantic Daily Bulletin नाम का newspaper था. जिसमे विज्ञापन, व्यापर जगत, घोडा दौड़ परिणाम और दैनिक दिनचर्या का वर्णन होता था। 

26. टाइटैनिक जहाज पे उपस्थित सारे इंजीनियर अपनी अंतिम साँस तक यात्रियों को बचाने में लगे हुए थे।

टाइटेनिक दुर्घटना में बचने वाला एक जापानी जब जापान पहुँचा तो उसको उनके देश के लोगो ने कायर कहा था क्योंकि वो ओर लोगो की तरह अपने देश के लिए कुर्बान नही हुआ था।

टाइटैनिक के सबसे प्रसिद्ध बचे हुए लोगों में से एक मार्गरेट ब्राउन था, जिसे बाद में “द अनसिंकेबल मौली ब्राउन” उपनाम दिया गया था। वह एक उत्साही कार्यकर्ता बन गई, जो महिलाओं के मताधिकार का समर्थन करती है और यहां तक कि सीनेट के लिए भी खड़ी हुई पर वो जीत नहीं सकी। 

27. अपने आखिरी पलों में टाइटैनिक के बीच से टूटकर दो टुकड़े हो गए थे. ये दोनों टुकड़े आज भी समुंद्र में पड़े है और इनके बीच की दूरी 600 मीटर है। और इस जहाज को डूबने के 72 साल बाद oceanographer Robert Ballard ने अपने टीम के साथ खोज था. 

28. मेसीडिपार्टमेंट स्टोर के सह-मालिक, इडीडोर स्ट्रॉस, टाइटैनिक पर एक यात्री थे, जब वह डूब गया। उन्होंने और उनकी पत्नी इडा ने अलग होने से इनकार कर दिया और जहाज पर एक साथ मर गए। 

29.जॉन जेकब एस्टर IV बोर्ड पर सबसे धनी यात्री था। उनकी कुल संपत्ति 90 मिलियन डॉलर से अधिक थी। मुद्रास्फीति को ध्यान में रखते हुए आज उसकी दो बिलियन डॉलर से अधिक बनती है।

चॉकलेट मोगुल मिल्टन एस। हर्शे के पास एक टिकट और सब कुछ था, लेकिन उसे  newyork जल्दी मे व्यापारिक बैठकों के लिए दूसरे जहाज का टिकट बुक कराकर जाना पड़ा.

30. 2017 में,एक रिसर्च में यह बात सामने आई कि यह सिर्फ एक हिमखंड नहीं था जिसने टाइटैनिक को डूबा दिया, बल्कि एक आग भी लगी जिसने जहाज को नुकसान पहुंचाया और इसे बनाने वाली कंपनी द्वारा कवर किया गया। ‘

शोधकर्ताओं का कहना है कि टकराव होने के लगभग तीन सप्ताह तक आग जलती रही और जहाज पर सवार अधिकारियों को कथित तौर पर जहाज में सवार यात्रियों में से किसी को भी पूर्व क्षति का उल्लेख नहीं करने के लिए कहा गया। (1, 2, 3)

दोस्त, अगर आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा, कुछ नया जानने को मिल तो इसे LIKE ,SHARE & SUBSCRIBE जरूर करें। मुझे आपको ऐसी ही मजेदार और काम की चीज़ें साझा करने मे मदद मिलेगी। Thank You 💖😊

This Post Has 8 Comments

Leave a Reply